सुभाष चंद्र बोस का जन्म

चोदा सेक्सी पिक्चर

चोदा सेक्सी पिक्चर, आप चुप हो जाइए प्लीज़, वरना सारा खेल ख़तम हो जाएगा, किसी को भनक भी लग गयी, तो हम दोनो भी इनके हाथ लग जाएँगे, फिर कोई सूरत नही कि हम कुछ कर पायें…! सेठानी तो दो राउंड में ही हार मान बैठी और एक किनारे पर लंबी हो गयी, कुछ ही देर में उनके खर्राटे गूंजने लगे..,

लेकिन सच ही कहा है किसी ने.., नागिन बस जहर ही उगलना जानती है.., मे तो कहती हूँ.., अभी भी वक़्त है.., सुधर जा और इस भाग्यबस मिले जीवन को अच्छे कामों में लगा…! अब स्थिति यह थी कि रेणुका जी थोड़ा ऊपर होकर स्लैब पर बैठ गई थीं… उनके पैर दो तरफ फ़ैल गए थे जिनके बीच में मैं खड़ा था और उनका गाउन दो तरफ लुढ़क चुका था।

फिर जैसे ही उसकी कमर बिस्तर से लगी, मेने सेठानी को उसके उपर ही घोड़ी बना दिया, और पीछे से उनकी मोटी गान्ड के पाटों के बीच अपना लंड फँसा कर नीचे को रगड़ता ले गया.., चोदा सेक्सी पिक्चर फिर जैसे ही वो अपनी चूत को मेरे लंड पर दबाकर रुकी, मेने शयामा को कुतिया की तरह पीछे से पेलना शुरू कर दिया, और खूब पेला, फिर आख़िरकार अपना ढेर सारा पानी उसकी नन्ही सी चूत में उडेल दिया..,

अंगणवाडी च्या आजच्या बातम्या

  1. ‘कोई बात नहीं बीटा… तुम अपने पिताजी के साथ जाओ और कल शाम तक लौट आना… जब तक तुम वापस आओगी मैं समीर जी को बिल्कुल ठीक कर दूँगी।’ रेणुका जी ने वन्दना को दिलासा दिलाते हुए कहा और एक बार मेरी तरफ शरारती अंदाज़ में देख कर मुस्कुराई।
  2. उधर अंकुश के कानों में जब अपनी भाभी की चीख पड़ी, और लल्लाआ… शब्द सुनाई दिया तो उसकी चेतना वापस लौटने लगी, उसने अपनी शक्ति समेटकर मोहिनी भाभी के शरीर को अपनी बाहों में संभाल लिया…! देसी औरत की चुदाई
  3. वैसे आपको बता दूँ कि मैं रहने वाला बिहार का हूँ, बिहार की राजधानी पटना में ही मेरा जन्म हुआ लेकिन मैंने दिल्ली में अपने रिश्तेदारों के यहाँ रहकर अपनी पढ़ाई पूरी की और फिर यहीं बढ़िया सी नौकरी भी मिल गई। वो लाख कोशिश कर रही थी कि यहाँ से चली जाए, ये ठीक नही है, अपनी बेटी के देवर के बारे में ये सब सोचना उचित नही है, लेकिन वासना के वशीभूत उनका मंन मेरे लौडे को हाथ में लेकर सहलाने के लिए उकसा रहा था…!
  4. चोदा सेक्सी पिक्चर...मेरे दिमाग़ में ये कभी-कभी ये सोचकर बड़ी कोफ़्त होती जा रही थी कि देखो मे मुस्टंडा सा खाली बैठा हूँ, मेरी बेहन कमाने जाती है.., 'हाहा...अच्छा जी. चलो कोई बात नहीं अब तो तुम यहीं हॉस्टल में रहा करोगी, सो जब मैं दिल्ली आया करूँगा तो तुम यहाँ आ जाया करना मेरे पास हॉटेल में.' जयसिंह का आशय अभी मनिका कैसे समझ सकती थी, सो वह खुश हो गई और बोली,
  5. टॉप के नाम पर एक रेशमी कपड़ों से बना कुरता था जिसमे से उसकी ब्रा की लाइन साफ़ दिख रही थी। उसकी 32 साइज़ की गोल गोल चूचियों की पूरी गोलाइयाँ उस रेशमी कुरते के अन्दर से एक मौन निमंत्रण सा दे रही थीं। ‘वो..वो … कुछ बिस्किट्स पड़े थे वो खा लिए हैं… ऑफिस में देर हो रही थी…’ मैंने पकड़े गए मुजरिम की तरह सफाई देते हुए कहा और मुस्कुराने लगा।

मुंबई क्सक्सक्स

उन दोनो हवस में अंधी हो रही जवान घोड़ियों को इस अवस्था में देखकर संजू का लंड उसके पाजामे में कबड्डी खेलने लगा.., उसे लगा कि कहीं साला कपड़े फाड़कर बाहर ना निकल पड़े…!

मेरे हाथ को अपनी गान्ड से हटाकर वो मेरे लंड के उपर बैठ गयी, अपनी चूत को उसके उपर घिसते हुए हंस कर बोली – अच्छा जी, जैसे आपके तो पीछे छेद ही नही.., दिखाऊ क्या..? 'नो पापा ऐसा नहीं है...आप सही कह रहे हो बट आप भी समझो ना...अपने पापा से शरम नहीं आएगी क्या? इसीलिए इट्स सो एमबैरेसिंग फॉर मी...’मनिका ने सकुचाते हुए दलील दी.

चोदा सेक्सी पिक्चर,मे खड़े-खड़े ही जूस पीने लगा, और मेरे पीछे खड़ी नीलू भाभी बड़े प्यार से धीरे-धीरे मेरी पीठ का पसीना पोंच्छने लगी…!

और एक बात बाबूजी, मेने सोचा है, कि जैसे ही हमारा ये बंगला रेडी हो जाएगा, हम सभी गाओं से यहाँ आकर शिफ्ट हो जाएँगे…!

इसी बीच रेणुका हम दोनों के पास आई… वंदना को उसने कुछ कहा और फिर वो मेरी तरफ मुड़ी- आराम से आइयेगा… रात का वक़्त है हड़बड़ाने की कोई जरूरत नहीं है… कहीं कोई हादसा न हो जाए।बीपी सेक्सी नंगा

आज उसके स्कूल में पेरेंट्स मीटिंग रखी थी.., भैया को अपने कॉलेज से फ़ुर्सत नही थी सो मीटिंग अटेंड करने के लिए मोहिनी भाभी को ही जाना पड़ा…! वो – क्या बच्चों जैसा सवाल करते हो…? जो आदमी हर बिज़्नेस में पार्ट्नर हो, वो उस काम में क्यों नही होगा..?

उनमें से एक को देख कर तो मे इतनी बुरी तरह चोंका, कि अगर मेरे हाथ पैर बँधे नही होते तो मे बेड से उच्छल ही पड़ता….!

रेखा के शूसाइड के बाद से तो पिच्छले 6 महीनों से उन्होने अपने पति से भी कोई वास्ता नही रखा था, और खुद ही एक रेडीमेड गारमेंट की छोटी सी फॅक्टरी में काम करके घर चला रही थी…!,चोदा सेक्सी पिक्चर 'हाँ पापा आई क्नॉ...आई थिंक आई एम् गेटिंग व्हाट यू आर ट्राइंग टू से...कि सोसाइटी इज नॉट ऑलवेज राईट...और ना ही हम हमेशा सही होते हैं...है ना?' मनिका ने जयसिंह की बात के बीच में ही कहा.

News