राजपूतों की चुदाई

घाटी हॉस्पिटल औरंगाबाद

घाटी हॉस्पिटल औरंगाबाद, मैं सन्न रह गयी। मेरी प्यारी मम्मी को कैंसर था और मुझे बताया भी नहीं किसीने। बुआ ने तुरंत मेरे चेहरे को देख कर कहा , देख नेहा हत्थे से छूटने मत लग जाना। तेरी मम्मी का कैंसर बहुत ही जल्दी पकड़ लिया था डॉक्टरों ने। सुन्नी ने खून की जांच कराई थी दुबारा गर्भित होने से पहले। फरजाना के फारिघ् होने के बाद मैं भी फरजाना के चुत मैं 5 6 तेज़ झतकों के साथ फारिघ् हो गया और अपना लंड बाहर निकल लिया और फरजाना की चुत की तरफ देखने लगा

फिर उसे घोड़ी वाले आसन में उसके पिछले छेद में अपनी तीन ऊँगलियाँ अन्दर तक घुसा दीं और उसकी योनि को अपने लिंग से भर दिया। अनुम उसे घूरकर देखते हुए दिल में सोचती है-कहीं ये फिर से ब्लू-फिल्में देखकर… नहीं नहीं, ऐसा नहीं है मेरा अमन…

अम्मी घर पे ही रुकी थी घर के कामो के लिए मैं भी उठ के नहा धो के नाश्ते से फारिघ् हुआ तो तब तक अबू भी शहर क लिए निकल चुके थे तो मैं बाजी के पास चला गया और बाजी के पास बैठ क बोला क्या हुआ घाटी हॉस्पिटल औरंगाबाद थोड़ी देर तक अबू मेरे साथ नज़र नहीं मिला पा रहे थे लेकिन मैने उन की तरफ ना तो तंज़िया निगाहों से देखा और ना ही कुछ ऐसा शो किया की जैसे मैं उन्हें अजीब सी निगाहों से देख रहा हूँ बस नॉर्मल जेसे रूटीन मैं बात करते हैं हम बाप

ப்ளூ ஃபிலிம் செக்ஸி ப்ளூ ஃபிலிம்

  1. चुदाई के बाद रामू काका ने सच बताया। रज्जो वास्तव में रामू काका की बेटी थी। नानू ने उसी समय रज्जो को अपनी छत्रछाया में ले लिया और उसकी लिखाई पढ़ाई की ज़िम्मेदारी अब हमारे परिवार की थी।
  2. मैं सिर्फ बिलबिलाती सिसकती रही और छोटे मामू ने घंटे भर रौंदी मेरी चूत निर्मम लंड के धक्कों से। मैं न जाने कितनी बार झड़ गयी थी। हिंदी व्हिडीओ सेक्सी हिंदी
  3. उधर मेरा और नूसी आपा के हाथ अकबर चाचू के हलके से सख्त होते लन्ड के ऊपर थे। हालाँकि अकबर चाचू का लन्ड अभी पूरा सख्त होने से कोसो दूर था फिर भी हम दोनों की मुट्ठियाँ उनके लन्ड की मोटाई का सिर्फ आधा घेरा ही नाप पा रहीं थीं। अब्बू ने मेरी भारी जांघों को मोड़ अर मेरे घुटने मेरे सर के ऊपर तक पहुँच कर अब और भी ताकतवर धक्कों से मेरी चूत मारने लगे।
  4. घाटी हॉस्पिटल औरंगाबाद...मेरा लंड को अपने मुँह से बाहर निकल मम्मी ने फिर मेरे अंडकोषों को अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी। वो ऐसा कर रही थीं जैसे कोई आम की गुठलियों को चूसता है। करीब बीस मिनट उसको जबरदस्त तरीके से रगड़ कर जैसे ही झड़ने की हुआ, तभी सुमीना बोली, अबे अंदर मत झड़ना अभी जरा रुक, मैं तुझको बताती हूँ कि क्या करना है? और इतना कह कर…
  5. आखिरकार मेरे अन्दर भी शैतान जाग उठा। मैंने उसी अवस्था में उसे बिस्तर पर पटका और अपने लिंग को उसके गले तक पहुँचाने लगा। दोनों माँ-बेटे एक दूसरे से चिपके अपनी साँसें संभालने लगते हैं। करीब 10 मिनट बाद अमन रजिया के ऊपर से उतरकर साइड में आ जाता है।

देसी राजस्थानी सेक्सी वीडियो गांव की जंगल की

अमन फिर से उसके होंठों पे होंठ रख देता है, और धीरे-धीरे लण्ड चूत में अंदर-बाहर करने लगता है-अह्म्मह… अह्म्मह…

मैं.... हाँ मैं सर हिलाते हो बोला जी बाजी अब मैं आप से नाराज़ नहीं हूँ लेकिन दोबारा अगर कोई बात आप को नज़र आती है तो आप मुझे एक बार बात ज़रूर कर लेना कहीं ये ना हो की बिना किसी बात के फिर से बतंगद बन जाए और हल्का सा हँसने लगा मैं दौड़ कर उसके पास पहुँचता हूँ और उसके बंधे हुए हाथ-पाँव को बंधन से आज़ाद करता हूँ। जहाँ-जहाँ रस्सियों के कसाव की वजह से कोमलन उभर आए थे.. उन जगहों को चूमता हुआ और अपनी आंसुओं से भिगोता हुआ.. उसे आज़ाद करके अपनी बांहों में भर लेता हूँ।

घाटी हॉस्पिटल औरंगाबाद,बाजी... मुझे कान से पकड़ के मरोदते हो बोली कामीने तुम्हें ये सुबह नज़र आ रही है देखो तो सही 9 बज चुके हैं और तुम ही क अभी तक गधों की तरह सो रहे हो अभी तक

मैंने ब्लू फिल्मों के बाद पहली बार ऐसा दृश्य देखा था। मेरे जीवन का यह अद्भुत अनुभव था। यह इतना रोमांचित कर देने वाला और वासना भड़का देने वाला दृश्य था कि मैं बता नहीं सकता।

बिल्लो ने ब्रा उतार के मेरी तरफ देखा और कुछ ऐसे खड़ी हो गई जैसा की मुझे अपने पूरे बूबस अच्छी तरह दिखना चाहती हो ,सेक्सी वीडियो सुहागरात देहाती

डॉली रसोई ठीक करने में लग गई और मैंने अपने फ़ोन को स्पीकर से जोड़ा और तेज़-तेज़ गाने बजाने लगा। उस पर भी अजीब से मेरे डांस स्टेप्स। बाजी मेरी तरफ देख के बोली भाई अगर तुम्हारा साथ पाने के लिए मुझे सारी दुनिया के मर्दों से भी चुदवाना पड़ा तो मैं चुदवा लूंगी समझे ये तो फिर भी अबू से ही किया है

मैंने हाँ में सर हिलाया। मम्मी नहाने चली गईं और हम दोनों भाई-बहन अपने कमरे में आ गए। मैंने अपना लोअर पहन लिया। क्योंकि अब कोई आ भी सकता था। करीब आधा घंटे बाद सोनिया की सहेली तनीषा का फोन आया।

फिर उनकी जीभ की नोक ने मेरी फड़कती नाक की पूरे नक़्शे को धीरे धीरे सहलाया। फिर अब्बू ने मेरी पूरी नाक को अपने मुंह में भर कर अपनी जीभ की नोक को कभी एक नथुने में या फिर दुसरे,घाटी हॉस्पिटल औरंगाबाद बिल्लो बोली हाँ हाँ एक बात मान जाना बाकी मैं खुद मनवा लूनगी यदि देर तक हम दोनो ऐसे ही बताईं करते रहे फिर

News