jio को चोदा

क्रिप्टो करेंसी म्हणजे काय

क्रिप्टो करेंसी म्हणजे काय, मैं बात उनसे कर रहा था.. लेकिन मेरी हरामी नज़रें.. उनकी चूचियों पर थीं, मैं देखना चाहता था कि वो कुछ प्रतिक्रिया करती हैं या नहीं। ‘हहहे’ ससुरजी को मेरी लाचारी पे बहुत मज़ा आ रहा था. मुझे जाकड़ के वो अपना नंगा शरीर मेरे उपर रगड़ रहें थे. ऐसा करने से ससुरजी को बहुत सेक्स चढ़ गया. और वो पागल के जैसे मेरे कपड़े को खीच खीच के फाड़ने लगे. दो ही मिनिट में मेरे फटे कपड़े ज़मीन पे थे और में सिर्फ़ अपनी ब्रा और पैंटी में थी.

फिर अम्मी बोलीं – लेकिन मसला ये है कि उस कुत्ते को कहाँ मिला जये? अम्बरीन खाला बोलीं – यासमीन! नज़ीर चालाक आदमी है... हमें उसे अपने घर ही बुलाना चाहिये क्योंकि हमारे लिये बाहर कहीं जाना ज़्यादा खतरनाक हो सकता है। मैंने और अम्मी ने इस बात से इत्तेफ़ाक किया। संध्या- लगता है मुझे कुछ करना ही पड़ेगा, खेर तुम चिंता मत करो और मैं जैसा कहती हू वैसा ही करना हो सकता है आज रात को ही तुम्हे अपनी मम्मी की चूत और गंद को चोदने का मोका मिल जाए पर जब तुम मम्मी को चोदोगे तब मैं क्या करूँगी,

‘अब मुझे जाना चाहिए… आप को भी दफ्तर जाना होगा और वन्दना भी कॉलेज जाने वाली है…’ रेणुका जी ने कांपते शब्दों के साथ बस इतना कहा और शर्मीली मुस्कान के साथ मुड़ कर वापस चल दीं। क्रिप्टो करेंसी म्हणजे काय इस'से पहले की वाणी कुच्छ बोलती.. प्रिया ने आकर उसके दोनो गाल प्यार से खींच लिए.., इस'से डरने की ज़रूरत नही है.. इसका भी एक राज मेरे पास है.. क्यूँ वाणी?

महाराष्ट्र बीएफ वीडियो

  1. जैसे हीं वो मेरी बच्चेदानी से टकराया, मैं मस्ती से चिल्ला उठी, हाँ राजा, हाँ चोद...चोद मुझे...ऐसे हीं...कस-कस के पेल दे अपना मूसल मेरी चूत में.
  2. ‘हमे उससे क्या फरक पड़ता हैं’ सरजी ने हस्ते हस्ते कहा. अब सरजी, डिज़िल्वा और दोनो नर्स मुझे देख रहे थे, चारों मुझे ऐसे देख रहे थे जैसे वो मुझे खा जाने वाले हो. मुझे कुछ समझ में नही आ रहा था कि क्या बात हो रही हैं. डिज़िल्वा मेरे पास आ गया. उसने मुझे जाकड़ लिया और कहा हिंदी बफ देहाती
  3. मैं कमीना, जैसे ही भाभी ने दूध का बर्तन कहा, मेरी नज़र फिर से उनकी चूचियों पर चली गईं जो तेज़ तेज़ साँसों के साथ ऊपर नीचे होकर थरथरा रही थीं… बापू : छ्हम्मो.कल रात तेरे कूल्हों का सेवन (टेस्ट) नहीं किया. बापू मेरे हिप्स/बट्स को जीभ से चाट-ने लगे....बापू शेल्फ पर मेरी टाँगों के बीच में बैठ गये और मेरी चूत पर जीभ मारने लगे.मेरे जिस्म में से एक करेंट सा दौड़ा.
  4. क्रिप्टो करेंसी म्हणजे काय...पर अबकी फिर जैसे मैं कगार पे पँहुची उन्होंने हाथ हटा लिया. इसी तरह सारी रात ७-८ बार मुझे कगार पे पँहुचा के वो रोक देते... मेरी देह में कंपन चालू हो जाता लेकिन फिर वो कच-कचा के काट लेते. अरे वो आप को तो मालूम ही है की वो गाँव गया था अपनी बहन की सगाई में .... वहाँ उसके बहन की ससुराल वालों ने शर्त रखी की उसकी बहन की ननद के साथ .... .और नीरज बाम्बे चला गया .... एक कोर्स करने .... ।
  5. एक हाथ से राज के हाथ अपने सीने पे दबाते, गुलबदन ने दूसरा हाथ लुंगी के नीचे डालके उसके नंगे लंड को सहलाते, उसकी झांट पे हाथ घुमाते हुए कहा- रात की बात रात को, अभी जितना करने मिल रहा है करो… ममता- अपनी जीभ बाहर निकाल कर मेहता को दिखाती है और मेहता उसकी जीभ को अपने मूह मे भर कर चूस्ते हुए उसकी चूत दबाने लगता है,

जवान बहु की चुदाई

आरीए मर गैइइ...... मेरी पसलियाअ टूट गैईई.... बचाओ कोई मुझीई मेरी बुरर्र के चीथड़े उड़ा दियी.....आआआअ आ......एयेए माइ गैइइ आआआआआआआआआअ मेराअ निकल रहाआ हेयोयीयियैयियी आआ और मैं भी बिल्कुल कररीब आ गया सो मैने लंड को शिवानी की जड़ मे ठूंस दिया और वही से पिचकारी शिवानी की बुर मे छोड़ने लगा........ ......

‘डिज़िल्वा, तू यहाँ क्यूँ आया हैं, मैने कहा था तुझे तेरे जैसे फालतू भदवे के माल से मेरा पेट नहीं भरेगा’ बूढ़े आदमी की आवाज़ भी ठीक से निकल नही रही थी. बहुत बूढ़ा था. मैं टेबल से घूम के मेडम के सामने की तरफ आ गया क्यॉंके मुझे यकीन था के अगर मैं उसी पोज़िशन से और वही खड़े खड़े उनके शोल्डर्स तक झुकता तो मेरा लंड शुवर्ली उनकी गंद से लग जाता इसी लिए मैं घूम कर उनके सामने आ गया.

क्रिप्टो करेंसी म्हणजे काय,मैं : बिल्कुल नहीं.बापू मैं अपनी मॅक्सी निकाल ही देती हूँ मैने अपनी मॅक्सी उतार दी.अब मैं सिर्फ़ ब्रा-पॅंटी में थीऔर बापू सिर्फ़ लूँगी में.

और ‘ये’ भी मेरी चूचियाँ मसलते हुए बोलने लगे, ले ले रानी ले. बहुत प्यासी है तेरी चूत ना... घोंट मेरा लौड़ा!

रमण ने कहा कि करना क्या है,अब कल मैं तुम्हारी मम्मी को तुम्हारी ही बाइक पर मूवी दिखाने ले जाउन्गा,तुम्हारा क्या ख़याल है सही रहेगा ना.டவுன்லோட் மேட்ச்

रमण आरती के टॉप के उपर से ही उसकी पीठ पर धीरे-2 हाथ फेर रहा था,और उसकी गोरी काया के मज़े ले रहा था,आरती भी धीरे-2 गरम होने लगी थी. कब बॉस ने शीबा की साड़ी खींच, पेटिकोट का नाड़ा खोल उसको बेपर्दा कर दिया, अब शीबा के बदन पे सिर्फ़ एक कच्छी थी,

पहले आगे के छेद का मज़ा देंगे फिर तुम्हारी गांद भी मारेंगे. मीना अब गांद भी खूब मरवाती है. उसने गांद के छेद पर उंगली लगाई. फिर रमेश ने तेल की बॉटल मुझे दे कहा,

इसके पहले की वो कोई जवाब देती मैने एक ऑटो पकड़ा और उसमे सवार होकर अपनी मंज़िल को और निकल गया ............,क्रिप्टो करेंसी म्हणजे काय उसे यह भी मालूम पड़ा है कि आज तक वो जिसे अपना बाप समझ रही थी वो उसका बाप नहीं है बल्की वो किसी ड्रायवर की औलाद थी।

News